SD Live TV Please click the play button

प्रशिक्षण सह सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए पंचायत मंत्री श्री पटेल ने की घोषणा

स्वयं सहायता समूहो के भवन निर्माण के लिए 3 करोड दिये जाएगे-पंचायत मंत्री श्री पटेल
उत्कृष्ट विद्यालय मैदान झाबुआ पर आयोजित पंच-सरपंच, स्व-सहायता समूह
प्रशिक्षण सह सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए पंचायत मंत्री श्री पटेल ने की घोषणा
झाबुआ—– उत्कृष्ट विद्यालय झाबुआ के मैदान पर आयोजित पंच-सरपंच, स्व-सहायता समूह प्रशिक्षण सह सम्मेलन को संबोधित करते हुए पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल ने कहा कि 73वां एवं 74वां संविधान संशोधन की वजह से त्रिस्तरीय ग्राम पंचायतो को अधिकार देकर जनहित के कार्यो के लिए शक्तिशाली बनाया गया। पंचायतो में अच्छा काम हो इसके लिए ग्राम पंचायतो को अधिकार सम्पन्न बनाया जाना जरूरी है, इसके लिए सरकार द्वारा प्रयास किये जा रहे है। ग्राम पंचायत स्तर पर सरपंच द्वारा 50 हजार रूपये तक के कार्य किये जा सकेगे। उन्हे 50 हजार रूपये तक के कार्य करने के अधिकार दिये जाएगे। गांव के विकास के लिए ग्राम पंचायते छोटे छोटे कार्यो कों करने के लिए निर्णय ले पाये इसके लिए ग्राम पंचायतो के वित्तीय अधिकार बढाने के लिए प्रयास किये जाएगे। मुख्यमंत्री जी के वचन पत्र के अनुसार स्वयं सहायता समूहो की बहनो का कर्जा माफ करने के लिए भी कार्य योजना बनाकर कार्य किया जा रहा है। स्वयं सहायता समूहो की बहनो को बैठक करने के लिए इधर उधर नही भटकना पडे इसके लिए प्रत्येक जनपद पंचायत में 50 लाख की लागत से भवन का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए जिले की छः जनपद पंचायतो में आजीविका मिशन भवन निर्माण करने के लिए 3 करोड रूपये दिये जाने की घोषणा मंत्री श्री पटेल ने अपने उदबोधन के दौरान की।
उन्होने कहा कि प्रदेश में मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ के नेतृत्व में सरकार बनते ही सरकार द्वारा निरंतर जनकल्याणकारी निर्णय लिये जा रहे है। सरकार द्वारा कन्या विवाह के लिए राशि बढाकर 51 हजार कर दी गयी है। पेंशन की राशि भी बढाकर डबल कर दी गयी है। गेहू खरीदी पर किसानो को 260 रूपये प्रति क्विंटल बोनस दिया गया है। राज्य सरकार द्वारा आदिवासियो के विकास के लिए कई जनकल्याणकारी कदम उठाये जा रहे है। जनकल्याणकारी योजनाओ को अंतिम व्यक्ति तक पहुचाने के लिए हाल ही में सरकार द्वारा आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम प्रारंभ किया गया है। आमजन की समस्याओ के त्वरित निराकरण हेतु जनअधिकार कार्यक्रम प्रारंभ किया गया है। जिसमें मुख्यमंत्री स्वय विडियां कांफ्रेन्स के माध्यम से जिले के अधिकारियो एवं आवेदक दोनो को साथ में सुनते है। उन्होने सम्बोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री मदद योजना में आदिवासी के घर पर किसी परिजन की मृत्यु होने पर बाहरवा के कार्यक्रम हेतु 1 क्विंटल चावल या गेहू दोनो में से एक दिया जाएगा। यदि बच्चे का जन्म हो तो संस्कार कार्यक्रम के लिए 50 कि.ग्रा तक गेहू या चावल दोनो मे से एक दिया जाएगा। कार्यक्रम के लिए बर्तन भी ग्राम पंचायतो के माध्यम से उपलब्ध करवाये जाएगे।
उन्होने कहा कि शासन द्वारा अभी जनता के हित में विद्युत बिल के संबंध में एक और क्रांतिकारी निर्णय लिया गया है। अब ऐसे उपभोक्ता जो 100 यूनिट तक बिजली जलाते है,उन्हे सिर्फ 100 रूपये का ही बिजली बिल भरना पडेगा। उपभोक्ता चाहे अमीर हो या गरीब हो। सरकार सभी वर्गो के लोगो को समान भाव से योजनाओ का लाभ दे रही है। सर्वांगीण विकास के लिए गांव के लोगो का विकास जरूरी है। इसके लिए सरकार प्रतिबद्व है। आने वाले सालो में एक-एक कर के सभी वचन निभायेगे। इसके लिए सरकार प्रतिबद्व है। उन्होने अधिकारियां को सम्बोधित करते हुए कहा कि शासन की हितग्राही मूलक योजनाओ में हर पात्र व्यक्ति तक योजना का लाभ पहुचाना सुनिश्चित करे। लापरवाही करने वाले अधिकारियो पर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। सम्मेलन में मंत्री श्री पटेल एवं अतिथियो द्वारा शासन की विभिन्न योजना में लाभान्वित हितग्राहीयो को हितलाभ का वितरण भी किया गया। सम्मेलन में पूर्व सांसद श्री कान्तिलाल भूरिया, विधायक थांदला श्री वीरसिंह भूरिया, विधायक जोबट कलावती भूरिया, विधायक पेटलावद श्री वालसिंह मेडा एवं अन्य जनप्रतिनिधियां ने भी सम्बोधित किया। सम्मेलन में जिला पंचायत अध्यक्ष शांति डामोर, कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा, पुलिस अधीक्षक विनीत जैन, सीईओ जिला पंचायत श्री संदीप शर्मा, सहित जनप्रतिनिधि, जिला अधिकारी एव बडी संख्या मे आमजन उपस्थित थे।
झाबुआ जिला मुख्यालय पर उत्कृष्ट विद्यालय मैदान पर आयोजित कार्यक्रम में झाबुआ की संस्कृति से ओतप्रोत नृत्य के माध्यम से मंत्री श्री पटेल का स्वागत किया। कार्यक्रम में कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा, सीईओ जिला पंचायत श्री संदीप शर्मा ने झुलडी पहनाकर तीर कमान देकर एवं प्रतीक चिन्ह गुडिया मंत्री जी को भेंट कर स्वागत किया। कार्यक्रम में स्वागत भाषण देते हुए कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने जिले के विकास के बारे में पंचायत तथा स्व सहायता समूह द्वारा किये जा रहे कार्यो के बारे में बताया। सीईओ जिला पंचायत संदीप षर्मा ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग एवं आजीविका परियोजना के सम्मेलन में समूहो एवं पंचायतो द्वारा किये जा रहे कार्यो के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *